आम जनता की आवाज

Search
Close this search box.

काठगोदाम क्षेत्र से 51 दिन पहले लापता हुए छात्र का क्षत-विक्षत शव मिला!

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

काठगोदाम क्षेत्र से 51 दिन पहले लापता हुए छात्र का क्षत-विक्षत शव शीतला देवी मंदिर के पास एक गड्ढे में मिला है। छात्र ने स्कूल यूनिफॉर्म पहन रखी थी. परिजनों ने छात्र की हत्या की आशंका जताई है.

पुलिस की जांच पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट पर आधारित है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद पता चलेगा कि छात्र की मौत कब और कैसे हुई।

भास्कर (15) पुत्र सुभाष चंद्र दुम्का, मूल निवासी ग्राम पोखरी, पुटगांव, तालुका धारी, शिवपुरी जवाहर ज्योति दमुवाढूंगा में अपने चाचा मोहन सेमवाल के घर पर रहता था। भास्कर आवास विकास स्थित एक निजी स्कूल में कक्षा नौ में पढ़ता था। 17 फरवरी को वह घर से स्कूल के लिए निकला लेकिन तब से घर नहीं लौटा। परिवार के लोग देर शाम तक खोजबीन करते रहे। इसके बाद काठगोदाम थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई गई।

पुलिस जांच के दौरान छात्र को आखिरी बार शीतला मंदिर के पास लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में देखा गया था. 51 दिन बाद सोमवार को जंगल में घास काटने गई एक महिला ने किशोर का शव गड्ढे में पड़े होने की सूचना पुलिस को दी. मौके पर पहुंची पुलिस टीम ने शव को कब्जे में लिया और मोर्चरी में पहुंचाया. परिजनों ने शव की पहचान भास्कर के रूप में की.

पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया
भास्कर के चाचा चंद्र दत्त दुम्का और चाचा विवेक दुम्का ने मामले में पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया। लापता बच्चे को ढूंढने में कोई रुचि नहीं दिखाई गई। आरोप है कि पुलिस ने भास्कर की तलाश कर रही दमुवाढूंगा चौकी प्रभारी को जांच टीम से हटा दिया। दो पुलिसकर्मियों की मदद से हमारे बच्चे की तलाश की गई। उन्होंने आखिरी बार छात्र के साथ देखे गए दो बच्चों पर हत्या का शक जताया है। बच्चों के परिजनों ने उन पर धमकाने का भी आरोप लगाया है.

Leave a Comment