आम जनता की आवाज

Search
Close this search box.

उत्तराखंड  में मॉनसून की धमाकेदार एंट्री !

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

भीषण गर्मी के बीच उत्तराखंड में मॉनसून के पहुंचने से राहत के साथ ही मुसीबत भी शुरू हो गई है। आईएमडी की ओर से उत्तराखंड में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

ऐसे में लोगों से अपील है कि भारी बारिश के दौरान सतर्क रहें।

मॉनसून ने हरिद्वार और उधमसिंहनगर जिलों के कुछ हिस्सों को छोड़कर पूरे उत्तराखंड को कवर कर लिया है। इस बार मॉनसून पिछले साल के मुकाबले तीन दिन की देरी से उत्तराखंड पहुंचा है। 2023 में मानसून 24 जून को उत्तराखंड में पहुंचा था। इस बीच, मौसम विभाग ने प्रदेश में तीन जुलाई तक भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है।

मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक डॉ. बिक्रम सिंह ने गुरुवार को बताया कि दक्षिणी-पश्चिमी मानसून उत्तराखंड में प्रवेश कर गया है। मानसून की लाइन बारमेड़, जयपुर, आगरा, बांदा, सिंधी, चैबासा, हल्दिया, पटना, महाराजगंज, देहरादून, ऊना, पठानकोठ, जम्मू से होकर गुजरी।


उत्तराखंड का अधिकांश हिस्सा मानसून ने गुरुवार को कवर लिया। ऊधमसिंहनगर और हरिद्वार का कुछ हिस्सा बचा है, जो अगले एक या दो दिन में कवर हो जाएगा। कई इलाकों में बारिशमानसून की दस्तक के साथ कुमाऊं और गढ़वाल के पहाड़ी इलाकों में अच्छी बारिश दर्ज की गई।

मैदानी इलाकों में भी कहीं-कहीं झमाझम बारिश हुई। मौसम विभाग के मुताबिक मौसम 28-29 जून, दो-तीन जुलाई को भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट और 30 जून-एक जुलाई के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है। निदेशक डॉ. बिक्रम सिंह ने बताया कि इस बार उत्तराखंड में सामान्य से ज्यादा बारिश की 61 फीसदी उम्मीद है।

कुमाऊं मंडल के कई जिलों में बारिश, हाईवे बाधित
उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल के विभिन्न जिलों में भी गुरुवार को बारिश हुई। नैनीताल में सुबह करीब पांच घंटे लगातार हुई बारिश से झील का जलस्तर बढ़ गया। झील नियंत्रण कक्ष के प्रभारी रमेश चंद्र ने बताया कि बारिश से झील के जलस्तर में 11 इंच की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

उधर, चम्पावत में बुधवार रात से गुरुवार सुबह तक लगातार बारिश हुई। यहां गुरुवार सुबह तीन बजे से छह बजे तक एनएच-9 बंद रहा। पिथौरागढ़ में गुरुवार को हल्की बारिश से मौसम सुहावना रहा।

Leave a Comment